तलाक को हिंदी में क्या कहते हैं ? Talak ko Hindi mein kya kahate Hain – Talak in Hindi . तलाक hindi का शब्द नहीं है तलाक एक urdu का शब्द है। हिंदू धर्म hindu religion में तलाक या शादी तोड़ने के लिए कोई शब्द है ही नहीं।

हिंदू धर्म में यह मान्यता होती है की शादी के समय पर अग्नि के सात फेरे लेने पर सात वचनों के साथ लड़का और लड़की दोनों एक दूसरे से सात जन्मों के लिए बंध जाते हैं और उन्हें कोई अलग नहीं कर सकता इसलिए Hindu धर्म में शादी तोड़ने का कहीं कोई नाम नहीं है।

आज का यह article है तलाक और divorce के ऊपर तो चलिए शुरू करते हैं।

Talak in meaning in Hindi ? – तलाक का हिंदी में क्या मतलब होता है।

Talak Ko Hindi Mein Kya Kehte Hai तलाक को हिंदी में क्या कहते है? तलाक एक urdu का शब्द है और तलाक का hindi में अर्थ होता है विवाहित संबंध तोड़ना
शादीशुदा जोड़ों में अगर शादी के बाद आपस में नहीं बनती या किसी और reason से उन्हें एक दूसरे से अलग होना होता है तो वह लोग एक दूसरे से talak ले लेते हैं।

हमारे संविधान constitution में थोड़े सालों पहले तक talak को लेकर कोई law नहीं था पर अब पिछले कुछ सालों से काफी सारे बदलाव के साथ तलाक को लेकर भी कई सारे law बने है।

इस article में आपको बताएंगे तलाक के लिए क्या process होती है और तलाक के बारे में बाकी सारी अन्य important जानकारी।

Divorce meaning in Hindi – डाइवोर्स को हिंदी में क्या कहते हैं।

Divorce Ko Hindi Mein Kya Kehte Hain. divorce का मतलब हिंदी में तलाक ही होता है।

जैसे कि हमने आपको पर बताया तलाक का मतलब होता है विवाहित जोड़ों का आपस में रिश्ता खत्म करना या अलग होना।

यह तो आप सभी जानते होंगे कि तलाक के लिए court में अर्जी देनी पड़ती है और court से फैसला होने के बाद ही अलग हुआ जा सकता है।

अगर बात talak की हुई रही है तो आपके लिए जाना भी जरूरी है कि तलाक के समय अगर महिला alimony की मांग करती है तो आदमी को उसे एलुमनी alimony देनी पड़ती है।

तीन तलाक से क्या होता है – what is meaning triple talaq . Teen Talaq Kya Hai 

 Teen Talaq तीन तलाक क्या है ? तीन तलाक triple talak की मान्यता islam धर्म में होती है।
तीन तलाक का act इस्लाम में 1937 से चलता आ रहा है इसमें यह होता है कि आदमी तीन बार तलाक बोल कर अपनी बीवी को talak दे सकते हैं ।

पहले तो talak देने के लिए आमने-सामने हो कर तलाक कहना पड़ता था पर मौजूदा समय (present time) में लोगों ने इसे भी मजाक बनाकर रख दिया और whatsapp,phone call फोन कॉल या letter के द्वारा तलाक तलाक तलाक रहकर talak दे देते हैं।

यह law औरतों की हक में ना होने के कारण उन्होंने supreme court में यह मुद्दा उठाया और और कई सारे मोर्चे भी किए जिसका result अब यह है कि supreme court ने तीन तलाक पर ban लगा दिया है।
वैसे देखा जाए तो supreme court का यह फैसला सही भी है।

क्योंकि तीन talak के बाद अगर मियां बीवी (husband wife) में आपस में सुलह हो जाती है तो फिर से शादी करने के लिए लड़की का हलाला होता है पहले उसके बाद हलाला वाली शादी को तोड़कर ही वह फिर से अपने पहले वाले पति शादी कर सकती है इन सब की वजह से औरतों को काफी suffer पड़ता है।

यह औरतों की हित में ना होने के कारण ही इस पर ban लगाया गया है।

तीन talak को तलाक ए बिददत भी कहा जाता है। तीन talak को लेकर 2019 में जो नया law बनाया गया है वह कुछ इस प्रकार है। अपने पति के द्वारा तीन बार talak कहकर तलाक दिए जाने पर कोई भी महिला और उसके परिजन police में शिकायत कर सकते हैं और उसके खिलाफ case दर्ज कर सकते हैं।


case दर्ज होने पर आदमी को तुरंत ही jail में डाल दिया जाता है और court में यह बात सिद्ध पर कि उसने तीन talak दिया है उसे 3 साल की सजा के साथ-साथ जुर्माना भी देना पड़ता है इस दौरान अगर उनके बच्चे नाबालिक (minor) होते हैं तो उन्हें मां के पास रखे जाने का decission लिया जाता है।

हिंदू धर्म में तलाक को क्या कहते हैं? – hindu dharm mein talaq ko kya kahate Hain?

तलाक को हिंदी में क्या कहते हैं? तलाक का अर्थ है ? जैसा कि हमने आपको पर बताया हिंदू धर्म में तलाक को लेकर ना तो कोई कानून है और ना कोई ऐसा शब्द है । hindu religion में पहले के समय में तो तलाक की कोई मान्यता नहीं थी पर अब ऐसा कुछ नहीं रहा।
अब कभी भी विवाहित जोड़ा court में अर्जी लगा कर एक दूसरे से talak ले सकता है
तलाक का शुद्ध hindi में meaning होता है विवाह विच्छेद या अलगाव।

तलाक कौन सी भाषा का शब्द है? -talaq kaun si Bhasha ka Shabd hai?

तलाक किस भाषा का शब्द है? शब्दMeaning of तलाक in Hindi . जैसे कि ऊपर बताया गया है talak एक उर्दू भाषा का शब्द है। तलाक की मान्यता islam में होती है पर अब इसे हर religion मानता हैॆॆ। लेकिन इस्लाम में तीन तलाक वाली प्रथा को सिर्फ islam religion के लोग मानते हैं तीन talak पर ban लग चुका है पर फिर भी कई लोग ऐसे हैं जो अब भी इस प्रथा को मानते हैं।

तीन तलाक triple talaq कब खत्म हुआ ? – teen talaq kab khatm hua ?

Triple Talaq : तीन तलाक तीन तलाक यानी तलाक ए बीदत का विल सांसद में सन् 2019 मैं आया था। 25 जुलाई 2019 में यह बिल लोकसभा Loksabha में पेश किया जहां इसे 79% सांसदों से vote मिले वही 30 जुलाई 2019 को यह दिल राज्यसभा rajyasabha में पेश किया जहां 56% सांसदों से vote मिले।
दोनों सदनों से पास होकर यह बिल राष्ट्रपति president के द्वारा संविधान constitution में लागू किया गया।

Present time में अगर कोई भी आदमी अपनी बीवी को तीन तलाक देता है और वह औरत उसके खिलाफ case दर्ज कर देती है तो उस आदमी पर कानूनी कार्यवाही की जाती है।
यह कानून औरतों के हक में बनाया गया है ताकि talak के बाद भी औरतों को अपना हक मिल सके।

तीन तलाक के नियम क्या है ? – teen talaq ke niyam kya hai ?

क्या है ट्रिपल तालक | ट्रिपल तालक बिल हिंदी में | क्या हैं तीन तलाक विधेयक के प्रावधान, जानें कब क्या हुआ ? तीन talak को लेकर islam में कई सारे नियम है जिनके बारे में भी हम आपको informationदेंगे चलिए शुरू करते हैं।

islam में तलाक 3 तरह के होते हैं पहला होता है तलाक ए अहसत् , इसके अनुसार आदमी अपनी बीवी को तलाक देता है उसकी माहवारी खत्म होने के बाद बिना किसी sexual intercourse के।
इस तरह के तलाक islam में काफी पाक माना जाता है और काफी पसंद किया जाता है।

दूसरा होता है तलाक ए हसन , इसमें होता है कोई भी आदमी अपनी बीवी को उसकी माहवारी खत्म होने के बाद बिना किसी sexual intercourse के talak देता है मतलब कहता है कि मैंने तुम्हें तलाक दिया और उसके बाद दूसरे महीने में दूसरी माहवारी के बाद तलाक कहता है और इसके बाद तीसरे महावारी के बाद तीसरी बार तलाक कहकर उसे talak दे देता है ।

तीसरा है तलाक ए बिदान या तलाक ए बिददत इसमें यह होता है कि आदमी अपनी बीवी को तीन बार तलाक कहकर talak देता है उसी समय उनके तलाक को मान्यता मिल जाती है पर यह सिर्फ islam धर्म में ही माना जाता है।

तलाक देने पर क्या सजा होती है? – talaq dene par kya Saja hoti hai ?

वैसे तो कानूनी तौर पर court में अर्जी देकर talak लिए जाने पर तलाक की कोई सजा नहीं होती पर अगर तीन तलाक से talak लिया जाए तो उसके लिए कानून बनाए हुए हैं जिनके आधार पर सजा मिलती है।
islami तलाक के अलावा normal तलाक लिया जाए तो उसमें अगर talak के लिए आदमी अपनी बीवी को प्रताड़ित करता है तो उसके लिए उसे सजा दी जा सकती है पर अगर वह तलाक legal तरीके से लेता है तो इसके लिए कोई सजा नहीं होती।

तीन तलाक देने पर अगर कोई भी औरत police station में case दर्ज कर देती है तो उस आदमी को 3 साल की jail और साथ में जुर्माना भरना पड़ता है । जुर्माने की रकम supreme court के judge द्वारा तय की जाती है।

तलाक की उत्पत्ति कैसे हुई? – birth of talak

तलाक की शुरुआत कैसे हुई ? – अब हम आपको बताएंगे कि तलाक की उत्पत्ति कैसे हुई? कैसे talak लागू हुआ?
इस्लाम में भी तलाक लेने को अच्छा नहीं माना जाता पर इसका यह मतलब नहीं है कि लोगों से talak लेने का हक छीन लिया गया है कोई भी शादीशुदा जोड़ा आपस में खुश नहीं है तो मैं आपसी सहमति से talak ले सकते हैं। इस्लाम में तलाक की मान्यता 1937 से चलती आ रही है।

तलाक को लेकर इस्लाम में कई सारे उसूल है। कोई भी आदमी अपनी बीवी से तलाक तीन तरीकों से ले सकता है जो कि हमने आपको ऊपर बताया है इसके अलावा talak के बाद islam में इद्दत की भी मान्यता होती है।
तो चलिए आपको इद्दत के बारे में विस्तार से बताते हैं।

इद्दत का मतलब होता है तलाक के बाद औरत को 3 महीने तक घर से बाहर नहीं निकलने दिया जाता घर के अंदर ही रखा जाता है ताकि अगर तलाक के समय वह pregnant हो तो यह बात सिद्ध हो सके कि वह अपने पति से ही pregnant हैं और उस औरत के character पर कोई उंगली ना उठा सके।

ऐसी मान्यता के पीछे कारण है हमारे society की घटिया पुरुषवादी सोच जिसके according चाहे गलती औरत की हो या ना हो उंगली उसी पर उठाई जाती है। इद्दत को इसलिए माना जाता है की talak के बाद भी औरत के परिजनों को किसी के द्वारा कोई गलत बात नहीं सुननी पड़े।

इद्दत के अलावा इस्लाम में हलाला की भी मान्यता है।
इसके according अगर कोई भी आदमी अपनी बीवी से talak ले लेता है और तलाक के बाद फिर से उसको पाना चाहता है या फिर से उसे शादी करना चाहता है तो इसके लिए उस औरत का पहले हलाला निकाह nikaah करवाया जाता है और हलाला निकाह के शौहर से उसे संबंध बनाने पड़ते हैं उसके बाद उससे तलाक लेकर फिर से पहले शौहर से nikaah करवाया जाता है।

क्योंकि उनका यह मानना है कि बीवी किसी dusre मर्द से संबंध बनाने पर आदमी को तकलीफ होती है और यह एक तरीका मानते हैं talak की सजा देने का पर असल में तो यह सजा आदमी के लिए नहीं औरत के लिए ज्यादा लगती है क्योंकि कई बार औरत की बिना मर्जी के उसका हलाला निकाह करवाया जाता है ताकि उसका पहला पति फिर से उसे निकाह कर सके।

Quran में हलाला के बारे में जो imformation है यह सब उससे बहुत ही अलग है।
कुरान के according अगर किसी भी औरत को अपने पहले पति से talak मिल जाता है तो उसके बाद वह दूसरी शादी यानी हलाला निकाह अपनी मर्जी से कर सकती है और उसके बाद भी अगर उसकी अपने दूसरे पति से नहीं बनती या वह उसे तलाक दे देता है या मर जाता है तो वह अपने पहले शौहर से निकाह कर सकती है पर धर्म के नाम पर रूढ़िवादी सोच रखने वालों ने हलाला को बिल्कुल ही गलत बना दिया है।

triple तलाक में कितने दिनों की सजा मिलती है? – triple talaq mein kitne din ki Saja hoti hai ?

triple talak यानी तीन तलाक का case लगने और आरोप सिद्ध होने पर 3 साल की सजा दी जाती है और के साथ साथ ही जुर्माना भी भरना पड़ता है।

क्या tirpal तलाक में जमानत हो सकती है ? – kya triple talaq mein jamanat ho sakti hai ?

अभी यह सोच रहे होंगे कि क्या तीन talak की सजा में जमानत भी हो सकती है या नहीं
तो आपको इसके बारे में बताते हैं।

supreme court ने 2019 में जो मुस्लिम महिला विवाह संरक्षण अधिकार का कानून लागू किया था उसके अनुसार तीन talak के जुर्म में जमानत पर कोई रोक नहीं लगी।
आरोपी की तरफ से अगर जमानत के लिए अर्जी दी जाती है तो उस पर कोई रोक नहीं है पर जमानत से पहले महिला के पक्ष की भी बात सुनी जाती है।

पीड़िता को गुजारा भत्ता मिलता है और कितना मिलता है ? – pidita ko gujara Bhatta Kitna milta hai ?

talak के बाद भी औरत अपने हक के लिए अगर चाहे तो गुजारा भत्ता या alimony की मांग कर सकती है।
इसके अंतर्गत वह सालाना या मासिक किस्तों में alimony की मांग कर सकती है इसके अलावा अगर वह चाहे तो अपने पति के घर property इत्यादि में भी हिस्सा ले सकती है।
इन सबके अलावा जो स्त्रीधन होता है मतलब की शादी के समय पर जो cash और gift लड़की को मिलते हैं उन पर भी उसका हक होता है।

पीड़िता के बच्चे किसके पास रहेंगे ? – pihidta ke bacche kiske pass rehenge ?

तलाक के बाद अगर case होने पर आदमी को jail हो जाती है सो जा मिल जाती है तो बच्चों की custody उनकी मां को मिल जाती है पर अगर पुरुष का अपराध सिद्ध नहीं होता और उसे किसी तरह की कोई सजा नहीं होती ऐसे में बच्चों की custody किस को मिलेगी इसका फैसला court ही करता है।
यह फैसला दोनों की आर्थिक स्थिति financial status और पारिवारिक स्थितियों को देखकर किया जाता है बच्चों का future किसके पास अच्छा रहेगा।

तीन तलाक से क्या होता है ? – teen talaq se kya hota hai ?

triple talak यानी तीन तलाक से तीन बार तलाक कहने पर talak हो जाता है।
जैसे कोई आदमी अगर अपनी बीवी को तीन बार यह कह दे कि मैं तुम्हें तलाक देता हूं तो इस्लामी माइनों में उनका तलाक हो जाता है।
इसी को लेकर काफी विवादों के बाद court ने यह फैसला सुनाया है कि इस तरह के talak की कोई मान्यता नहीं होगी।

divorce को हिंदी में क्या कहते हैं? – divorce ko Hindi mein kya kahate Hain ?

डिवोस को हिंदी में क्या कहते हैं – divorce का हिंदी में कोई अर्थ नहीं है पर divorce का urdu अर्थ है तलाक यानी विवाह विच्छेद।
डिवोर्स और तलाक दोनों का मतलब एक ही होता है वैवाहिक संबंध खत्म करना या अलग होना।

कफन को hindi में क्या कहते हैं? – Kafan ko Hindi mein kya kahate Hain?

कफन को हिंदी में श्वेत वस्त्र कहा जाता है जो कि मरे हुए के ऊपर डाला जाता है।
मरने के बाद मृतक के शरीर को श्वेत वस्त्र या कफन उड़ाया जाता है।
मुस्लिमों में कफन हरे रंग का होता है वही हिंदुओं में श्वेत वस्त्र कहा जाने वाला सफेद रंग का होता है।

तलाक को english में क्या कहते हैं? – talaq ko English mein kya kahate Hain ?

तलाक को इंग्लिश english में divorce कहते हैं।

डाइवोर्स (divorce )को उर्दू में क्या कहते हैं ? – divorce ko Urdu mein main kya kahate Hain?

divorce को उर्दू में तलाक कहते हैं। यह एक उर्दू शब्द है।

तलाक शब्द hindi है या उर्दू? – Talak Shabd Hindi hai ya Urdu ?

तलाक एक urdu शब्द है की मान्यता इस्लाम से शुरू हुई है।

तो यह थी कुछ Information तलाक और triple तलाक के बारे में।

निष्कर्ष :- तो दोस्तों आज की इस post में हमने आपको बताया कि तीन तलाक क्या होता है? तीन तलाक कैसे करते हैं? तीन तलाक का मतलब क्या होता है ? Hindi और English में तीन तलाक को क्या कहते हैं ? तीन तलाक कब खत्म हुआ ? आदि।।

अगर आपको हमारी post पसंद आती है तो comment करके जरूर बताएं।